Lagvag sab e log unke jivan mein judai se gujarate hain. Kuchh logon ke lie, judai ke dard ka samna karna mushkil hai. Har ek ka break up se nipatne ka apna tarika hota hai. Judai shayari ko padhna apke dard ko kam karne ka sabse prabhavi tarika hai.

Apnon se bichhadna kabhi asan nahin hota. Yah ek dukhi samay hai jab ek rishta samapt hota hai. Judai ka dard apko apne pyar ki gaherai ka ehsas karata hai, alag hone ka khatra apko apne rishte ko aur bhi adhik mahatv dena shuroo kar sakta hai. Lekin kabhi-kabhi behtar chijon ko pane ke lie aisa hona chahie.

Niche sabse accha hindi mai judai ki shayari ka sangrah milega jo apko dukhi se bachne ke lie takat dega.

Read also- Barish shayari

Dard E Judai Shayari In Hindi-

Judai ki shayari
Judai ki shayari
  • Teri judai bhi hamen pyar karti hai,
    teri yaad bahut bekarar karti hai,
    vah din jo tere sath guzare the,
    nazren unko bar-bar talash karti hain.
  • Jab vada kiya hai to nibhaenge;
    suraj kiran ban kar chhat par aenge;
    ham hain to judai ka gam kaisa;
    teri har subah ko phulon se sajaenge
  • Ho judai ka sabab kuchh bhi magar,
    ham use apni khata kahte hain,
    vo to sanson mein basi hai mere,
    jane kyon log mujhse juda kahte hain
  • Ishk mohabbat to sab karte hain!
    gam-ai-judai se sab darte hain
    ham to na ishk karte hain na mohabbat!
    ham to bas apki ek muskurahat pane ke lie tara sate hain
  • Hamen malum hai do dil judai sah nahin sakte
    magar rasme-wafa ye hai ki ye bhi kah nahin sakte
    jara kuchh der tum un sahilon ki chikh sun bhar lo
    jo lahron mein to dube hain, magar sang bah nahin sakte
  • Zindagi ap bin uljhan si lagti hai..
    ek pal ki judai modat si lagti hai..
    pahle to aihsas tha par ab yakin hai..
    har lamha apki jarurat si lagti hai..
  • Har mulakat par vakt taja hua
    har yaad pe mera dil ka dard taja hua
    suni thi sirph hamne gazlon me judai ki baten
    ab jab khud pe biti tab hakikat ka andaja hua
  • Teri har ada mohabbat si lagti hai
    ek pal ki judai mudt si lagti hain
    pahele nahi socha tha ab sochne lage hai
    ham zindegi ke har lamhon mein teri zarurat si lagti hai
  • Dosto ki judai ka gam na karna,
    dur raho to bhi dosti kam na karna,
    agar mile zindegi ke kisi mod par ham,
    to hame dekh kar apni ankhe band na karna.
  • Tu kya jane kya hai tanhai„
    is tute dil se puchh kya hai judai…
    bewafa ka ilzam na de zalim„
    is vakt se puchh kis vakt teri yad na ai…!!!
  • Jo mera tha vo mera ho nahin paya,
    ankhon mein ansu bhare the par main ro nahin paya,
    ek din unhonne mujhse kaha ki,
    ham milenge khvabon mein par meri bada kismati to dekhiye,
    us rat to main khushi ke mare so bhi nahin paya.
  • Na jane kyon hamen ansu bahana nahin ata,
    na jane kyon hal-ai-dil batana nahin ata,
    kyon sab dost bichhad gae hamase,
    shayad hamen hi sath nibhana nahin ata.
  • kisi na kisi pe kisi ko aitbar ho jata hai,
    ajnabi koi shakhs yar ho jata hai,
    khubiyon se nahi hoti mohabbat sada,
    kamiyon se bhi aksar pyar ho jata hai!!
  • Ishk or dosti mere do jahan hai,
    ishk meri ruh, to dosti mera iman hai,
    ishk par to phida kardu apni puri zindagi,
    par dosti par, mera ishk bhi kurban hai
  • Ek ajib sa manjar nazar ata hai,
    har ek ansun samandar nazar ata hai,
    kahan rakhun main shishe sa dil apna,
    har kisi ke hath main patthar nazar ata hai.
  • Jo najar se gujar jaya karte hain;
    vo sitare aksar tut jaya karte hain;
    kuchh log dard ko bayan nahin hone dete,
    bas chupchap bikhar jaya karte hain.
  • Kanto si chubhati hai tanhai,
    angaron si sulagti hai tanhai,
    koi a kar ham dono ko zara hansa de,
    main rota hun to rone lagti hai tanhai.
  • Sapno mein ane vali tera shukriya
    dil ko dhadkane vali tera shukriya
    kaun karta hai aj jahan mein kisi se itni mahobbat
    hamen apni zindagi mein shamil karne vali tera shukriya
  • Juda hokar bhi judai nahin hoti ishk
    umar kaid hai pyare ismen rihai nahin hoti
  • Teri judai ka shikava karun bhi to kisse karun,
    yahan to har koi ab bhi, mujhe, tera samajhta hain
  • Kismat par etbar kisko hai
    mil jaye khushi ka inkar kisko hai kuchh majburiyan hai
    mera dost varna judai se pyar kisko hai |
  • Laenge kahan se ham, judai ka hausla ,
    kyon is qadar mere karib a rahen hain ap …
  • Tera har chahat mein , teri mohabbat mein ,teri judai mein …
    koi roz tutta hai par avaj nahin karta…!
  • Unhen apni mohabbat pe he gurur to hame bhi to apni mohabbat pe he naj
    judai mein bhi kabhi badlega nahi hamari chahat ka andaj
  • Ab agar mile nahi hai to judai bhi nahi,
    bat thodi bhi nahi tumne banai bhi nahi
  • Ek teri judai ke dard ki bat aur hai
    jin ko na sah sake ye dil,aise to gam nahin mile
  • Hame koi wada nahi phir bhi tera intazar hain,
    judai ke bad bhi tum se pyar hai!
  • Zindagi me kisi se judai ka zikar mat karna…
    is dost se kabhi rusvai mat karna……
  • Har ek mulakat ka .. anjam , judai .. kyon hai –
    ab to har vakt .. yahi bat , satati hai .. hamen
  • Ham ashik judai ke girne bhi nahin dete
    bechain si palkon par moti se pirote hain
  • Teri tasvir ko sine se laga leti hun..
    is tarah judai ka gam mata leti hun..!

Lambi Judai Shayari For Boyfriend & Girlfriend-

Judai sad shayari
Judai sad shayari
  • हो जुदाई का सब कुछ भी मगर
    हम उसे अपनी खता कहते हैं
    वह टन साँसों में ढली है मेरे
    जाने क्यों लोग उसे मुझसे जुड़ा कहते हैं
  • मज़बूरी मैं जब कोई जुड़ा होता है
    ज़रूरी नहीं के वो बेवफा होता है
    दे कर वो आपकी आँखों में आंसू
    अकेले मैं आपस भी ज़्यादा रोटा है
  • याद रो-रो के तेरी सताती रही,
    आग जुदाई की दिल को जलती रही .
    आंधियां जब गुज़रती रही बाघ से,
    शाख-इ-गुल अपने सर को झुकाती रही …!
  • अपनी मोहब्बत की नाकामियां क्या कहूं,
    ख्वाइश-इ-इश्क़ हर कदम मुझे रुलाती रही..
    वह दूसरों से है के मिलते रहे,
    मेरी ही बाद’किस्मती अश्क़ बहती रही…!
  • कैसी अजीब ये तुझसे जुदाई थी,
    की तुझे अलविदा भी न कह सका,
    तेरी सादगी मई इतना फरेब था,
    की तुझे में बेवफा भी ना काह सके.
  • लोग मिलते हैं,
    और फिर हम एक दूसरे के करीब आते हैं,
    और करीब आकर,
    अक्सर जुड़ा हो जाते हैं,
    अगर किस्मत मई जुड़ा होना लिखा होता है,
    तोह खुदा ऐसे लोगों से मिलता क्यों है.
  • उसके बिन चुप-चुप रहना अच्छा लगता है,
    ख़ामोशी से एक दर्द को सहना अच्छा लगता है.
    जिस हस्ती की याद में आंसूं बरसते है,
    सामने उसके कुछ न कहना अच्छा लगता है.
    मिलकर उससे बिछड़ न जाये डरते रहते है,
    इसलिए बस दूर ही रहना अच्छा लगता है.
    जी चाहे अपनी साडी खुशियां लाकर उसको दे दू,
    उसके प्यार में सब कुछ खोना अच्छा लगता है.
    उसका मिलना न मिलना किस्मत की बात है,
    पल पल उसकी याद में रोना अच्छा लगता है.
    उसके बिना साडी खुशियां अजीब लगती है,
    रो रो कर उसकी याद में सोना अच्छा लगता है.
    हमसे मोहब्बतों की नुमायिशे न हो सकीय,
    उसको चाहते रहना अच्छा लगता है.
  • कितना दूर निकल गए रिश्ते निभाते निभाते,
    खुद को खो दिया हमने अपनों को पते पते,
    लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में,
    और हम थक गए मुस्कुराते मुस्कुराते…
  • कैसी अजीब ये तुझसे जुदाई थी,
    की तुझे अलविदा भी न कह सका,
    तेरी सादगी मई इतना फरेब था,
    की तुझे बेवफा भी न कह सके.
  • हमारे आंसू वो जान न सके,
    मोहोब्बत की कहानी वो मान न सके,
    कहा था उन्होंने मरने क बाद बी याद करेंगे,
    जीते जी तो वो याद कर न सके…
  • ज़िन्दगी से अपना हर दर्द छुपा लेना,
    ख़ुशी न सही गम गले लगा लेना,
    कोई अगर कहे मोहब्बत आसान है,
    तो उसे मेरा टूटा हुआ दिल दिखा देना…
  • प्यार की कभी नुमाइश न करना,
    वफ़ा की कभी आज़माइश न करना,
    मांगोगे जान तोह वह भी दे देंगे,
    बस कभी जुदाई की फरमाइश न करना.
  • विश्वास बन के लोग ज़िन्दगी में आते है ,
    ख्वाब बन के आँखों में समा जाते है,
    पहले यकीन दिलाते है की वो हमारे है,
    फिर न जाने क्यों बदल जाते है…
  • कितना इख़्तियार था उसे अपनी चाहत पर,
    जब चाहा याद किया, जब चाहा भुला दिया…
    बहुत अच्छे से जनता है वो मुझे बहलाने क तरीके,
    जब चाहा हँसा दिया, जब चाहा रुला दिया…
  • तू याद करे न करे तेरी ख़ुशी,
    हम तो तुझे याद करते रहते हैं,
    तुझे देखने को दिल तरसता है,
    हम तो इंतज़ार करते रहते हैं…
  • हर मुलाकात को याद हम करते हैं,
    कभी चाहत कभी जुदाई की आह भरते हैं,
    यूँ तो रोज तुमसे सपनो में बात करते हैं पर,
    फिर से अगली मुलाकात का इंतज़ार करते हैं.
  • टूटा हो दिल तो दुःख होता है,
    करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोटा है,
    दर्द का एहसास तो तब होता है जब,
    किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है…
  • जी लेते हैं कोई हमें अगर कहे बुरा,
    दुआ देकर उससे होंठों को हम सी लेते हैं…
    दर्द हो चाहे कैसा,
    ज़हर यह चुपके से हम पी लेते हैं…
  • हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर,
    हम उसे अपनी खता कहते हैं,
    वह टन साँसों में ढली है मेरे,
    जाने क्यों लोग उसे मुझसे जुड़ा कहते हैं.
  • हम भी कभी मुस्कुराया करते थे…
    उजाले में भी शोर मचाया करते थे…
    उसी दिए ने जला दिया मेरे हाथो को…
    जिस दिए को हम हवा से बचाया करते थे…

Read Also- Mafi Shayari

So friends, thats it for this post. If you liked this collection of judai shayari in hindi, then please share it in your WhatsApp and Facebook. if you want to share your shayari with us then do comment below. Thank you guys.

1 Comment

Write A Comment